Wednesday, July 10, 2019

फर्नीचर का बिजनेस या काम कैसे शुरू करे पूरी जानकारी 2020 / How To Start Furniture Work Or Business

फर्नीचर का बिजनेस या काम कैसे शुरू करे पूरी जानकारी 2020 / How To Start Furniture Work Or Business



फर्नीचर का बिजनेस

नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट में हम फर्नीचर का बिजनेस या काम कैसे शुरू करे और कैसे इस काम को बढ़ाये इस बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे है। इसलिए यदि आप इस काम को शुरू करना चाहते है या पहले से ही इस काम को कर रहे है तो इस पोस्ट की जानकारी आप के काम की हो सकती है।

काम शुरू कैसे करें 

फर्नीचर बिजनेस शुरू करने के लिए सबसे पहले आप को इस काम की जानकारी होनी चाहिए आपको फर्नीचर बनाना और बेचना दोनों आना चाहिए।  फर्नीचर का काम छोटे लेवल से लेकर बहुत बड़े लेवल से शुरू किया जा सकता है लेकिन छोटे लेवल से शुरू करने के लिए भी थोड़े ज्यादा इन्वेस्टमेंट की जरुरत होती है और कम से कम 250 से 300 वर्ग गज जगह की जरुरत होती है।  क्योकि इस काम को करने  के लिए आपको कई चीजों और साधनों की जरुरत होती है जो की इस प्रकार है।

वर्कशॉप और वेयरहाउस 

फर्नीचर का काम शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको फर्नीचर बनाने के लिए वर्कशॉप की जरुरत होती है वर्कशॉप में आपको अपनी जरुरत के हिसाब से कई तरह की मशीने लगनी होती है जो कम से कम 1 से 2 लाख में आती है। वर्कशॉप के साथ ही वेयरहाउस भी होना चाहिए जहां आप कच्चा मॉल (लकड़ी, प्लाइबोर्ड, माइका आदि ) रख सकते है तथा बना हुआ तैयार फर्नीचर भी रख सकते है।

शॉप या शोरूम 

आपको फर्नीचर को डिस्प्ले करने और बेचने के लिए शॉप या शोरूम की जरुरत होती है जो की आप के इन्वेस्टमेंट पर निर्भर करता है की आप किस तरह के फर्नीचर और कितने फर्नीचर के साथ काम शुरू करते है यदि आप छोटे लेवल से शुरू करते है तो आप छोटी शॉप या दुकान खोल सकते है या फिर बड़े लेवल से शुरू करते है तो बड़ा शोरूम भी खोल सकते है।

शॉप या शोरूम मैन रोड पर हो तो ज्यादा अच्छा होता है क्योकि इससे ज्यादा लोग आपके शोरूम में बारे में जान पाते है इससे मार्केटिंग में आसानी होती है। 

(नोट:- यहाँ हम आपको सलाह देना चाहते है की आप इस काम को छोटे लेवल से ही शुरू करे क्योकि किसी भी बिजनेस की शुरुआत में सेल्स बढ़ने में बहुत दिक्कत आती है शुरू में आपको बिजनेस के लिए कई तरह से मार्केटिंग करनी होती है डिस्काउंट ऑफर्स देने होते है और भी कर प्रकार की दिक्कतें होती है जिसमे बहुत पैसा खर्च होता है इसलिए यदि आप शुरू में ही बड़ा इन्वेस्टमेंट कर लेंगे तो बाद में बहुत दिक्कत हो सकती है। इसलिए आप इस काम को  छोटे लेवल से शुरू करके बाद में धीरे धीरे विस्तार दे सकते है )

GST नंबर 

यदि आप क़ानूनी रूप से काम करना चाहते है तो आपको GST नंबर के लिए अप्लाई करना होगा इसके अलावा यदि कोई लाइसेंस की जरुरत होती है तो आप उसके लिए भी अप्लाई कर सकते है इनकी जानकारी के लिए आप किसी प्रोफेशनल व्यक्ति की मदद ले सकते है। 


फर्नीचर की सेल कैसे बढ़ाए

किसी भी बिजनेस को शुरू करने के बाद सबसे पहली जरुरत होती है की बिजनेस में बिक्री होनी चाहिए। इसलिए कुछ बातो को जानकर हम अपने फर्नीचर बिजनेस की बिक्री बढ़ा सकते है जो की इस प्रकार है। 

अपने फर्नीचर की कीमत कम रखें 

किसी भी फर्नीचर को बेचने के लिए फर्नीचर की कीमत एक बहुत बड़ा फैक्टर होती है यदि कीमत कम होती है तो किसी भी चीज के बिकने की संभावना बहुत बढ़ जाती है लेकिन जब हम ज्यादा पैसा कमाने के चक्कर में फर्नीचर की कीमत अधिक रखते है तो उसके बिकने की संभावना बहुत काम हो जाती है या फिर वो बहुत समय बाद बिकता है इसलिए हमें फर्नीचर की कीमत कम रखनी चाहिए। कुछ बातो का ध्यान रख कर हम फर्नीचर की कीमत को कम रख सकते है जो की इस प्रकार है। 

प्रॉफिट मार्जिन कम रखें

हम फर्नीचर की कीमत में अपना प्रॉफिट मार्जिन कम रख कर फर्नीचर की कीमत कम कर सकते है जैसे यदि किसी टेबल का लागत मूल्य 1500 रूपए है और हम उसे 3000 रूपए की कीमत पर बेचना चाहते है तो इसे बिकने में 3 से 4 महीने या इससे भी ज्यादा समय लग सकता है पर यदि हम उस टेबल की कीमत 2000 रूपए रखते है तो वह कुछ ही समय में बिक सकती है क्योकि सस्ती चीज सभी को पसंद आती है और अगलेमहीनों में हम ऐसी 10 टेबल भी बनाकर बेच सकते है इस तरह हमारी मेहनत तो ज्यादा होगी पर हमें एक टेबल बेचने के मुकाबले कहीं ज्यादा फायदा होगा और हमारी टेबल 10 जगह जाने के कारण हमारे प्रोडक्ट और हमारी दुकान  का प्रचार भी होगा जिससे हमें भविष्य में और भी आर्डर मिलने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए हमें फर्नीचर पर प्रॉफिट मार्जिन कम रखना चाहिए। 


अच्छी क्वालिटी का माल कम कीमत पर खरीदें  

हमें फर्नीचर का लगत मूल्य कम रखने के लिए सस्ता और अच्छी क्वालिटी का कच्चा माल खरीदना चाहिए। बाजार में फर्नीचर के सामान की कई दुकाने होती है पर सभी पर सामान अलग अलग रेट पर मिलता है कुछ दुकानों पर अच्छे ब्रांड और अच्छी क्वालिटी के नाम पर महंगा सामान मिलता है जबकि उसी क्वालिटी का सामान कुछ दुकानों पर सस्ते दाम में मिलता है इसलिए हम बाजार में रिसर्च करके यह पता लगा सकते है की सबसे सस्ता सामान कहाँ मिलता है। 
                                                  हमें फर्नीचर का सामान खरीदते समय यह भी ध्यान रखना चाहिए की सामान खरीदने हमें स्वयं ही जाना चाहिए किसी के साथ या किसी के संपर्क या किसी बिचौलिये का प्रयोग करके सामान नहीं खरीदना चाहिए क्योकि कई दुकान वाले कस्टमर लाने या भेजने वालो को कमीशन भी देते है और इस कमीशन की पूर्ति हमें महंगा सामान बेच कर करते है इसलिए यदि हम किसी बिचौलिये के संपर्क से सामान खरीदते है तो हो सकता है की उसकी पहले से ही कोई कमीशन की बात दुकान वाले से हो रखी हो और जब हम सामान खरीदने जाएं तो हमें महंगा सामान मिले इसलिए हमें अपना सामान बिना किसी के संपर्क के स्वयं ही खरीदना चाहिए।  इस प्रकार है हम सस्ता सामान खरीदकर अपने फर्नीचर की लगत को काम कर सकते है।             

सेकंड हैंड फर्नीचर खरीदें 

आजकल सेकंड हैंड फर्नीचर बहुत ही आसानी से इंटरनेट पर उपलब्ध होते है लोग कई कारणों से अपना फर्नीचर बहुत ही काम दाम पर बेच देते है जैसे किसी के घर में उसे रखने की जगह नहीं होती हैकिसी का ट्रांसफर हो रहा होता हैकिसी को उस फर्नीचर की जरुरत नहीं होती हैकोई नया फर्नीचर खरीदना चाहता है इस प्रकार के कई कारणों से लोग अपना फर्नीचर बहुत ही काम दाम पर OLX, QUIKR जैसी वेबसाइट्स पर बेच देते है पर बहुत ही काम लोग उनसे फर्नीचर खरीदते है क्योकि ज्यादातर लोग नया फर्नीचर खरीदना चाहते है। 

हम फर्नीचर का लागत मूल्य कम करने के लिए सेकंड हैंड फर्नीचर खरीद सकते है क्योकि ये सस्ते मिलते है। जब हम किसी फर्नीचर को शुरू से बनाते है तो उसमे खर्चा अधिक आता है और समय भी अधिक लगता है लेकिन सेकंड हैंड फर्नीचर बहुत सस्ता मिलता है जिस पर हम थोड़ा बहुत काम करके उसे नया बना कर बेच सकते है जैसे की हम एक सेकंड हैंड डाइनिंग टेबल सेट खरीदते है तो उसमे ज्यादा कुछ ख़राब नहीं होता उसकी या तो केवल पोलिश ख़राब होती है या उसकी माइका ख़राब होती है या फिर थोड़ी मरम्म्मत की जरुरत होती है पर जब हम उसे ठीक करके उसकी माइका बदलकर उस पर पोलिश कर देते है तो वह नयी बन जाती है (इस प्रक्रिया को रेस्टोरेशन कहते है) इस प्रकार हम बहुत ही कम लागत में फर्नीचर तैयार कर सकते है और उसे कम कीमत पर बेच कर भी अच्छा मुनाफा कमा सकते है। 

नोट:- में सेकंड हैंड फर्नीचर खरीदते समय उसकी क्वालिटी और कंडीशन जरूर चेक करनी चाहिए। 


इस प्रकार हम कुछ बातो का ध्यान रख कर फर्नीचर का लागत मूल्य कम कर सकते है जिससे हमें फर्नीचर की कीमत कम रखने में मदद मिलती है। 

निर्माण प्रक्रिया पर ध्यान दें 

फर्नीचर बिज़नेस मे आपको फर्नीचर निर्माण प्रक्रिया की जानकारी होना बहुत जरुरी होता है इससे आपको बहुत सहायता मिलती है फर्नीचर निर्माण प्रक्रिया पर आप को खुद ध्यान देना चाहिए इस काम को किसी और के भरोसे नहीं छोड़ना चाहिए। आपको रॉ-मैटेरियल जैसे ( लकड़ी प्लाइबोर्ड माइका आदि ) का इस प्रकार से उपयोग करना चाहिए की उनका अधिक से अधिक इस्तेमाल हो सके तथा कुछ भी व्यर्थ न जाय इससे आपको अतिरिक्त और गैरजरूरी मटेरियल नहीं खरीदना पड़ेगा और इससे आपके फर्नीचर की लागत भी कम होती है।

फर्नीचर को बनाने तथा मटेरियल का भरपूर उपयोग करने के लिए आप ऑटोकैड (Autocad ) जैसे डिजाइनिंग सॉफ्टवेयर की भी मदद भी ले सकते है इस प्रकार के सॉफ्टवेयर में पूरा फर्नीचर कंप्यूटर में पहले से बनाकर देखा जा सकता है तथा फर्नीचर का कलर, डिजाइन आदि कई प्रकार से बदलकर सुन्दर दिखने वाला फर्नीचर बना सकते है इस प्रकार हम फर्नीचर में लगने वाले रॉ मटेरियल का भी पहले से अनुमान लगा सकते है तथा हम फर्नीचर बनाने से पहले ही उसकी लागत कंप्यूटर में निकल सकते है। 

इस प्रकार के सॉफ्टवेयर तथा आधुनिक तकनीक का प्रयोग करके हम ग्राहकों को कंप्यूटर में ही फर्नीचर का डिजाइन दिखा सकते है तथा उनके हिसाब से डिजाइन  कलर आदि में बदलाव करके फर्नीचर बना सकते है इस तरह से ग्राहको को भी अपनी पसंद का फर्नीचर मिलता है तथा हमें भी कम लागत में फर्नीचर बनाने की सुविधा मिलती है। 
ऑटोकैड (Autocad ) का कोर्स 3 से 4 महीने का होता है जो किसी भी कंप्यूटर इंसीटयूट से किया जा सकता है  तथा इसे ऑनलाइन भी सीखा जा सकता है। 



 रेडी टू गो फर्नीचर बनाए 

लोग जब शोरूम पर फर्नीचर खरीदने आते है तो किसी को फर्नीचर पसंद आते है किसी को पसंद नहीं आते है किसी को डिजाइन तो पसंद आता है पर कलर पसंद नहीं आता क्योकि सभी लोगो की पसंद अलग अलग होती है इस प्रकार से हम सभी लोगो की पसंद के हिसाब से अलग अलग फर्नीचर बनाकर तो नहीं रख सकते क्योकि इससे हमारा खर्चा बहुत बढ़ जाता है। 
                                                     इसलिए हम अपने शोरूम पर रेडी टू गो फर्नीचर रख सकते है (ऐसे फर्नीचर जो लगभग पुरे हो उनका केवल कलर, माइका, पोलिश और दूसरा छोटा मोटा काम ही बाकि हो उन्हें रेडी टू गो फर्नीचर कहतें है) । जब ग्राहक हमारे शौरूम पर आते है तब हम उन्हें रेडी टू गो फर्नीचर दिखाकर तथा कैटलॉग में माइका, असेसरीज व कलर पसंद कराकर उनके हिसाब से बना हुआ फर्नीचर दे सकते है तथा फर्नीचर तैयार करने के लिए 6 से 7 दिन का या और भी ज्यादा समय ले सकते है या फिर ग्राहकों की डिमांड के हिसाब से पूरा फर्नीचर भी बना सकते है।

 इस तरह जब ग्राहकों की पसंद के हिसाब से फर्नीचर बनता है तो उन्हें बहुत खुशी होती है और वे आपके शोरूम की तारीफ अपने मिलने वालो से भी करते है जिससे हमारे शोरूम का प्रचार भी होता है। 

डिजाइन और क्वालिटी पर ध्यान दें 

फर्नीचर में डिजाइन और क्वालिटी का सबसे अधिक महत्व होता है यदि फर्नीचर दिखने में सुन्दर हो अच्छे डिजाइन का हो तो उसे आसानी से बेचा जा सकता है इसलिए आज के आधुनिक युग में फर्नीचर भी मॉर्डन और आज की जरूरतों के हिसाब से आधुनिक होने चाहिए इसके अलावा फर्नीचर के लुकस और कलर कॉम्बिनेशन पर भी विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए तथा फर्नीचर का डिजाइन इस प्रकार का होना चाहिए की वो एक साथ कई जरूरतों को पूरा कर सके। आप स्पेस सेविंग, फोल्डिंग तथा मल्टी परपज डिजाइन के फर्नीचर बना सकते है इससे उस फर्नीचर की उपयोगिता बढ़ जाती है और ऐसे फर्नीचर को ग्राहक अधिक मूल्य चुकाकर भी ख़ुशी ख़ुशी खरीद लेते है इसलिए इस प्रकार के डिजाइन बनाने के लिए आपको क्रिएटिव होना पड़ता है इस प्रकार के क्रिएटिव आईडिया सोचने के लिए आजकल इंटरनेट उपलब्ध है जिसका उपयोग करके आप कई तरह के डिजाइन बना सकते है इसके अलावा आप स्वयं भी इतने क्रिएटिव हो सकते है की खुद भी अलग अलग तरह के डिजाइन सोच कर बना सकें। 

डिजाइन के अलावा आपके फर्नीचर की क्वालिटी भी अच्छी होनी चाहिए आपके फर्नीचर इतने मजबूत और टिकाऊ होने चाहिए की वो कई बरसो तक इस्तेमाल में आ सके।  इसके अलावा आप ग्राहकों को क्वालिटी का विश्वाश दिलाने के लिए फर्नीचर पर 4 से 5 साल की वारंटी या गारंटी भी दे सकते है इससे ग्राहकों का आपके फर्नीचर की क्वालिटी पर विश्वाश मजबूत होगा। 

अपने फर्नीचर के शोरूम तथा प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग  करें 

किसी भी काम को बढ़ाने के लिए उसका प्रचार करना मार्केटिंग करना तथा लोगो से संपर्क करना बहुत जरुरी होता है आपको लोगो को यह जानकारी देनी है की आप के शोरूम पर फर्नीचर सस्ते, बेहतर डिजाइन और अच्छी क्वालिटी के है इसके लिए आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीको से प्रचार कर सकते है जो की इस प्रकार है 


ऑनलाइन तरीके 



  • आप व्हाट्सएप्प, फेसबुक , जीमेल आदि का प्रयोग करके एक साथ कई लोगो तक अपने प्रोडक्ट्स की जानकारी भेज सकते है। 
  • आप Flipkart, Amazon, Quikr, Olx जैसी ऑनलाइन साइट्स पर अपने प्रोडक्ट्स आसानी से बेच सकते है। 
  • आप स्वयं की वेबसाइट बनाकर अपने प्रोडक्ट्स बेच सकते है और उनका प्रचार कर सकते है। 
इन ऑनलाइन तरीको से मार्केटिंग करने में और बेचने में ना के बराबर खर्चा आता है और इन तरीको के माध्यम से आप अपने प्रोडक्ट्स की विस्तृत जानकारी लोगो तक पंहुचा सकते है तथा आपकी पहुंच बहुत से लोगों तक हो जाती है और आपके  प्रोडक्ट बहुत जल्दी बिक जाते  है। 

ऑफलाइन तरीके 

  • आप लोगो को अपने फर्नीचर के कैटलॉग बांट सकते है पेम्पलेट छपवा सकते है होर्डिंग लगा सकते है । 
  • आप अखबार में विज्ञापन दे सकते है। 
  • आप अखबार में अपने प्रोडक्ट्स और शोरूम के पर्चे डलवाकर बटवा सकते है। 
  • आप लोकल टीवी चैनल में एड भी दे सकते है। 
इन ऑफलाइन तरीको पर खर्चा अधिक आता है और इनके माध्यम से सिमित जानकारी ही लोगो तक पहुंचाई जा सकती है तथा इन तरीको की पहुंच भी सिमित ही होती है। 


इनके अलावा सबसे बड़ा प्रचार तो आप के फर्नीचर की कम कीमत, बेहतर डिजाइन, और क्वालिटी होते है यदि ये तीनो चीजे आप के फर्नीचर में उपलब्ध हो तो आप के फर्नीचर को लोग जरूर पसंद करते है और वे धीरे धीरे स्वयं ही बिकने लगते है। 

मार्केटिंग करने के अन्य तरीके 

  • आप अपने फर्नीचर के शोरूम पर लोगो को आकर्षित करने के लिए कई तरह के ऑफर्स चला सकते है। 
  • आप एक निश्चित मूल्य से अधिक की खरीद पर होम डिलीवरी फ्री कर सकते है। 
  • आप सभी त्योहारों पर सेल रख सकते है तथा डिस्काउंट ऑफर दे सकते है। 
  • आप अपने शहर में लगने वाली प्रदर्शनियों में अपने फर्नीचर की स्टाल लगा सकते है या फिर प्रदर्शनियों में अपने शोरूम और प्रोडक्ट्स के पर्चे भी बाँट सकते है। 

अपने पुराने कस्टमर्स के संपर्क में रहें 

आपको अपने हर कस्टमर के संपर्क में रहना चाहिए इसके लिए आप अपने हर प्रोडक्ट की बिक्री पर अपने कस्टमर से उनका एड्रेस और फ़ोन नंबर ले सकते है  तथा एक एड्रेस बुक मेंटेन कर सकते है। इस एड्रेस बुक का इस्तेमाल करके आप अपने कस्टमर्स को हर त्यौहार पर शुभकामना संदेश भेज सकते है तथा अपने ऑफर्स की जानकारी भी दे सकते है इससे कस्टमर भी आपको याद रखेंगे तथा किसी और फर्नीचर की जरुरत पड़ने पर आप से ही संपर्क करेंगे।


इस पोस्ट में हमने फर्नीचर का काम कैसे शुरू करे और कैसे इस काम को बढ़ाये इस बारे में विस्तृत जानकारी आसानी से समझ में आ सकने वाले शब्दों में लिखी है। इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के लिए धन्यवाद्। 



धन्यवाद् 
ज्ञान और जानकारी 
www.gyanorjankari.in 

2 comments: