Tuesday, June 30, 2020

निफ़्टी कैसे खरीदें और बेचें सम्पूर्ण जानकारी How to Buy and Sell Nifty in Hindi

निफ़्टी कैसे खरीदें और बेचें सम्पूर्ण जानकारी

How to Buy and Sell Nifty in Hindi

How-to-buy-nifty-in-hindi

निफ़्टी Nifty में ट्रेड करने के लिए डीमैट अकाउंट की जरुरत होती है तथा निफ़्टी को खरीदने और बेचने का काम ऑप्शन ट्रेडिंग के अंतर्गत किया जाता है। निफ़्टी को खरीदना किसी शेयर को खरीदने से बिलकुल अलग होता है, निफ़्टी में शेयर की जगह कॉन्ट्रैक्ट ख़रीदे और बेचे जाते है जिन्हें कॉल [CE] कॉन्ट्रैक्ट और पुट [PE] कॉन्ट्रैक्ट कहते है।

निफ़्टी में ट्रेड करने से पहले यह जानना बहुत जरुरी है की निफ़्टी क्या होता है और कॉल CE और पुट PE कॉन्ट्रैक्ट क्या होते है।

निफ़्टी क्या है (What is Nifty)

निफ़्टी में 1600 से अधिक कंपनियां रजिस्टर्ड है, उनमे से अलग-अलग सेक्टर की पचास सबसे प्रमुख कंपनियों को लेकर एक सूचकांक बनाया जाता है जिसे निफ़्टी या निफ़्टी-50 कहते है।

निफ़्टी में ट्रेडिंग करने के लिए निफ़्टी के वर्तमान स्तर को देखकर और उपलब्ध जानकारियों के आधार पर उसके भविष्य का अनुमान लगाया जाता है और उसके हिसाब से निफ़्टी के अलग-अलग स्तरों के कॉन्ट्रैक्ट ख़रीदे और बेचे जाते है।

कॉन्ट्रैक्ट्स (Contracts)

निफ़्टी में ऑप्शन ट्रेडिंग (Option Trading ) के अंतर्गत कॉल CE और पुट PE दो प्रकार के कॉन्ट्रैक्ट ख़रीदे और बेचे जाते है।

निफ़्टी के वर्तमान स्तर से ऊपर के जितने भी कॉन्ट्रैक्ट होते है उन्हें कॉल CE कॉन्ट्रैक्ट कहते है इसी प्रकार निफ़्टी के वर्तमान स्तर से निचे के जितने भी कॉन्ट्रैक्ट होते है उन्हें पुट PE कॉन्ट्रैक्ट्स कहते हैं।

कॉल CE कॉन्ट्रैक्ट (Call Contracts)

मान लेते है की वर्तमान में निफ़्टी 9000 के स्तर पर है और हमें लगता है की निफ़्टी अगले कुछ दिनों में 9500 का स्तर छू सकता है तो हम आज ही 9500 के स्तर (Strike: निफ़्टी में स्तर या लेवल को Strike कहतें है) का कॉन्ट्रैक्ट (कॉल CE कॉन्ट्रैक्ट) खरीद सकते है जो की आज हमें कम दाम में मिलेगा और जब निफ़्टी 9500 का स्तर (Strike) छू लेगा तो हमारे CE कॉन्ट्रैक्ट का मूल्य बढ़ जायेगा, जिसे बेच कर हम बहुत अच्छा मुनाफा कमा सकते है।

पुट PE कॉन्ट्रैक्ट (Put Contracts)

इसी प्रकार हम मान लेते हैं की वर्तमान में निफ़्टी 9000 के स्तर (Strike) पर है और हमें लगता है की निफ़्टी अगले कुछ दिनों 8500 के स्तर (Strike) तक गिर सकता है तो हम आज ही  8500 के स्तर (Strike) का कॉन्ट्रैक्ट (पुट PE कॉन्ट्रैक्ट) खरीद सकते है और निफ़्टी के 8500 के स्तर (Strike) पर गिरने पर हम उसे अधिक दाम में बेच कर मुनाफा कमा सकते है।

निफ़्टी में कारोबार के दौरान उतर चढ़ाव के हिसाब से हर स्तर के कॉन्ट्रैक्ट के मूल्य लगातार बदलते रहते है जिन्हे NSE की वेबसाइट पर ऑप्शन चैन (Nifty Option Chain) में देखा जा सकता है

लॉट (LOT )

निफ़्टी के कॉन्ट्रैक्ट 75 की लॉट में ख़रीदे और बेचे जाते है, अर्ताथ हम केवल एक कॉन्ट्रैक्ट खरीद या बेच नहीं सकते हमें निफ़्टी में ट्रेडिंग करने के लिए कम से कम 75 कॉन्ट्रैक्ट एक साथ खरीदने और बेचने पड़ते है।

इस प्रकार मान लेते है की यदि निफ़्टी के एक कॉन्ट्रैक्ट का मूल्य 6.75 रूपए है तो हमें एक लॉट खरीदने के लिए 75 x 6.75 = 506.25 रूपए का मूल्य चुकाना पड़ेगा। 

75 से अधिक कॉन्ट्रैक्ट खरीदने और बेचने के लिए हमें उसी हिसाब से अधिक लॉट खरीदने पड़ते है, जैसे 2 लॉट में 150 कॉन्ट्रैक्ट और 3 लॉट में 225 कॉन्ट्रैक्ट्स,  और इसी तरह हर लॉट के साथ 75 के गुणांक में कॉन्ट्रैक्ट्स की संख्या बढ़ती जाती है।

एक्सपायरी (Expiry)

 निफ़्टी के सभी कॉन्ट्रैक्ट्स की एक्सपाइरी डेट होती है जो की समान्यतः एक हफ्ते की होती है, अर्ताथ निफ़्टी के सभी कॉन्ट्रैक्ट्स की वैधता एक निश्चित समय के लिए ही होती है , निफ़्टी के सभी कॉन्ट्रैक्ट्स को उस निश्चित समय सिमा के अंदर ही ख़रीदा और बेचा जा सकता है उसके बाद ये कॉन्ट्रैक्ट्स निष्क्रिय हो जाते है।

सामान्यतः निफ़्टी के कॉन्ट्रैक्ट्स की अवधि 1 हफ्ते की होती है यदि हमें एक हफ्ते से अधिक समय सिमा वाले कॉन्ट्रैक्ट खरीदने है, तो हम उसी हिसाब से 2 हफ्ते बाद एक्सपायर होने वाले या 3 से 4 हफ्ते बाद एक्सपायर होने वाले कॉन्ट्रैक्ट्स खरीद सकते है। जैसे :-

मान लेते है की 1 जून को निफ़्टी 9000 के स्तर (Strike) पर है और हमें 9300 के स्तर (Strike) का कॉल CE कॉन्ट्रैक्ट खरीदना है, तो हमारे पास 9300 के स्तर (Strike) के लिए कुछ कॉन्ट्रैक्ट उपलब्ध रहेंगे जो अलग अलग तारीखों पर एक्सपायर होंगे जिनमें से हम अपनी पसंद के हिसाब से कॉन्ट्रैक्ट खरीद सकते हैं जैसे :-

 NIFTY
NSE 01 JUNE 20  9300 CE
 NIFTY
NSE 07 JUNE 20  9300 CE
 NIFTY
NSE 14 JUNE 20  9300 CE
 NIFTY
NSE 28 JUNE 20  9300 CE
 NIFTY
NSE 05 JULY 20  9300 CE


निफ़्टी के कॉन्ट्रैक्ट्स की एक्सपाइरी सामान्यतः गुरुवार को होती है, गुरुवार को अवकाश होने की स्थिति में गुरुवार से एक दिन पहले या फिर अवकाश के हिसाब से एक्सपायरी निर्धारित की जाती है।

ट्रेडिंग कॉस्ट (Trading Cost)

निफ़्टी के कॉन्ट्रैक्ट्स खरीदने और बेचने पर निफ़्टी के मूल्य के अलावा ब्रोकरेज चार्ज और टैक्स अलग से लगते है।

सभी स्टॉक ब्रॉकर ऑप्शन ट्रेडिंग में अलग अलग ब्रोक्रेज चार्जेज लेते है कुछ 20 रूपए प्रति ट्रेड लेते है तो कुछ इससे जायदा या कम भी लेते है यह ब्रोक्रेज चार्ज हमें निफ़्टी के मूल्य के अलावा चुकाने होते हैं और इन ब्रोक्रेज चार्ज पर टैक्स भी लगते है वे भी हमें चुकाने होते है इसे हम एक उदाहरण द्वारा समझ सकते है :-

मान लेते है की हमें निफ़्टी का कॉन्ट्रैक्ट खरीदना है जिसका मूल्य 10 रूपए है और ब्रोक्रेज 20 रूपए है तो हमें कुल मूल्य इस प्रकार चुकाना पड़ेगा :-

 निफ़्टी मूल्य   10 x 75              = 750.00 
 ब्रोक्रेज                                  20.00 
 ब्रोक्रेज पर GST 18 %                                   3.60 
 चार्जेस पर GST 18 %
                                   . 64 
 अन्य टैक्स   मान लेते है लगभग    2.50 
 कुल योग                               776. 74 

इस प्रकार हमें 10 रूपए मूल्य पर निफ़्टी का एक लॉट खरीदने के लिए 776. 74 रूपए चुकाने होंगें।

इसी तरह जब भी हम निफ़्टी का कोई लॉट बेचेंगे तो हमें इसी प्रकार ब्रोक्रेज चार्ज और अन्य टैक्स चुकाने होते है।


No comments:

Post a Comment