Thursday, January 28, 2021

क्रिप्टॉन गैस के गुण, उपयोग और रोचक तथ्य Krypton Gas in Hindi

क्रिप्टॉन गैस के गुण उपयोग और रोचक तथ्य 

Krypton-gas-ke-gun, Krypton-gas-ke-upyog, Krypton-gas-ke-tathy, क्रिप्टॉन-गैस-के-गुण, क्रिप्टॉन-गैस-के-उपयोग, क्रिप्टॉन-गैस-के-रोचक-तथ्य
क्रिप्टॉन गैस

परिचय

क्रिप्टॉन गैस का वर्गीकरण अधातु के रूप में किया जाता है, यह एक नोबल गैस है। रासायनिक रूप से क्रिप्टॉन एक तत्व है। सामान्य तापमान पर क्रिप्टॉन गैस अवस्था में पायी जाती है। इसका गलनांक (पिघलने का तापमान) -157.2 डिग्री सेल्सियस (-250.95 डिग्री फेरेनाइट) होता है, इससे कम तापमान पर यह गैस ठोस अवस्था में पायी जाती है, इसका क्वथनांक (उबलने का तापमान) -153.4 डिग्री सेल्सियस (-244.12 डिग्री फेरेनाइट) होता है। क्रिप्टॉन का घनत्व 3.74 ग्राम प्रति 1000 घन सेंटीमीटर होता है। आवर्त सारणी (Periodic Table) में क्रिप्टॉन ग्रुप 18, पीरियड 4 और ब्लॉक् (P) में स्थित होता है। क्रिप्टॉन का सिंबल Kr, परमाणु संख्या 36 तथा परमाणु भार 83.798 amu होता है। क्रिप्टॉन के परमाणु में 36 इलेक्ट्रान, 36 प्रोटॉन, 48 न्यूट्रॉन और 4 एनर्जी लेवल होते है।


क्रिप्टॉन की खोज 1898 में स्कॉटिश केमिस्ट सर विलियम रामसे (Sir William Ramsay) ने की थी।

Krypton-gas-in-Hindi, Krypton-ke-upyog, krypton-ke-tathy,
Krypton Gas Properties in Hindi

क्रिप्टॉन गैस के गुण 

  • क्रिप्टॉन रंगहीन और गंधहीन गैस है। 
  • क्रिप्टॉन निष्क्रिय गैस होती है, यह फ़्लोरिन के अतिरिक्त किसी अन्य तत्व से प्रतिक्रिया नहीं करती। 
  • माइनस 157.2 डिग्री सेल्सियस से कम तापमान पर क्रिप्टॉन गैस ठोस अवस्था में परिवर्तित हो जाती  है, जो एक सफ़ेद क्रिस्टलीय संरचना के रूप में दिखाई देती है।
  • क्रिप्टॉन विधुत करंट से बहुत ही शीघ्र प्रतिक्रिया करती है। 
  • क्रिप्टॉन गैस में इलेक्ट्रिक करंट प्रवाहित करने पर यह अत्यंत तेज सफ़ेद रौशनी के साथ चमकती है। 


क्रिप्टॉन गैस के उपयोग 

  • क्रिप्टॉन एक दुर्लभ और बहुत महँगी गैस होती है, इसलिए इसके उपयोग अत्यंत सिमित है। 
  • क्रिप्टॉन गैस का उपयोग हाई स्पीड फोटोग्राफी के लिए हाई स्पीड फ़्लैश बनाने में किया जाता है। 
  • कुछ फ्लोरोसेंट बल्ब में क्रिप्टॉन का उपयोग आर्गन गैस के साथ किया जाता है। 
  • आर्गन और क्रिप्टॉन गैस से बने फ्लोरोसेंट बल्ब नारंगी-लाल रंग की रौशनी देते है, यह अत्यंत चमकदार बल्ब होते है तथा इनका प्रकाश अन्य लाइटों की तुलना में अधिक दुरी तक दिखाई देता है, इनका प्रकाश कोहरे को भी पार कर जाता है। इसलिए इनका उपयोग एयरपोर्ट पर उपयोग होने वाली उच्च शक्ति की आर्क लाइटों में किया जाता है।  
  • रेडियोएक्टिव क्रिप्टॉन-85 का उपयोग सील कंटेनर में लिकेज की जाँच करने में किया जाता है। 
  • 1960 से 1983 तक क्रिप्टॉन आइसोटोप क्रिप्टॉन-86 का उपयोग लम्बाई के 1 मीटर मानक माप  को निर्धारित करने के लिए किया गया था।  
  • क्रिप्टॉन गैस का उपयोग लेजर बनाने में किया जाता है। 
  • क्रिप्टॉन लेजर का उपयोग आँख के रेटिना की सर्जरी में किया जाता है, क्रिप्टॉन लेजर से सर्जरी से रक्त का थक्का बन जाता है जिससे रक्त स्त्राव स्वतः ही रुक जाता है, और यह इतना सटीक भी होता है की जिससे आस-पास की कोशिकाओं को नुक्सान भी नहीं होता है। 
  • क्रिप्टॉन गैस का उपयोग प्रयोगशाला में रिसर्च के लिए भी किया जाता है।


क्रिप्टॉन गैस के रोचक तथ्य 

  • क्रिप्टॉन गैस सामान्य वायु से 2.8 गुणा अधिक भारी होती है।
  • क्रिप्टॉन वायुमंडल में मुक्त अवस्था में पायी  जाती है, वायुमंडल में लगभग 0.0001 प्रतिशत क्रिप्टॉन गैस पायी जाती है। 
  • क्रिप्टॉन गैस को तरल हवा के आसवन द्वारा प्राप्त किया जाता है। 
  • क्रिप्टॉन एक अत्यंत दुर्लभ गैस होती है, इसलिए इसका मूल्य भी बहुत अधिक होता है।  
  • दुनिया में तरल हवा से प्रतिवर्ष लगभग 8 टन क्रिप्टॉन गैस का उत्पादन किया जाता है। 


No comments:

Post a Comment