नियॉन गैस के गुण, इसके उपयोग और रोचक तथ्य Neon Gas in Hindi

नियॉन गैस के गुण, इसके उपयोग और रोचक तथ्य Neon Gas in Hindi

 

नियॉन क्या है  

नियॉन का वर्गीकरण अधातु के रूप में किया जाता है, यह एक नोबल गैस है। रासायनिक रूप से नियॉन एक तत्व होता है। नियॉन का सिंबल Ne होता है, तथा इसकी परमाणु संख्या 10 और इसका परमाणु भार 20.1797 amu होता है। नियॉन का घनत्व 0.9 ग्राम प्रति 1000 घन सेंटीमीटर होता है। सामान्य तापमान पर नियॉन गैस अवस्था में पायी जाती है। नियॉन का गलनांक (पिघलने का तापमान) -248.59 डिग्री सेल्सियस (-415.46 डिग्री फेरेनाइट) होता है और इसका क्वथनांक (उबलने का तापमान) -246.08 डिग्री सेल्सियस (-410.94 डिग्री फेरेनाइट) होता है। नियॉन के परमाणु में 10 इलेक्ट्रान, 10 प्रोटॉन, 10 न्यूट्रॉन और 2 एनर्जी लेवल होते है। आवर्त सारणी (Periodic Table) में नियॉन ग्रुप 18, पीरियड 2 और ब्लॉक् (P) में स्थित होता है। 

 

Neon-Properties-uses-and-facts-in-Hindi, Neon in Hindi, Neon ke gun, Neon ke upyog, Neon ke rochak tathy, Neon ki Jankari, Neon kya hai, Neon Kya Hota Hai, Neon Gas uses,

Neon in Hindi

नियॉन की खोज 1895 में स्कॉटिश केमिस्ट सर विलियम रामसे (Sir William Ramsay) ने की थी। 

 

नियॉन गैस के गुण 

 

Neon-in-Hindi, Neon-ke-gun-upyog-or-rochak-tathy

Neon Gas Properties in Hindi
  • नियॉन एक रंगहीन, गंधहीन और स्वादहीन गैस है।   
  • नियॉन रासायनिक रूप से निष्क्रिय गैस है। 
  • नियॉन हीलियम के बाद दूसरी सबसे हलकी नोबल गैस है। 
  • नियॉन केवल -246.08 डिग्री सेल्सियस से -248.59 डिग्री सेल्सियस तक की तापमान सिमा (टेम्प्रेचर रेंज) के बिच में ही तरल अवस्था में पायी जाती है, यह तापमान सिमा (टेम्प्रेचर रेंज) सभी तत्वों में सबसे कम है।
  • वैक्युम डिस्चार्ज टयूब में नियॉन नारंगी रंग की रौशनी में साथ चमकता है। 
 
 

नियॉन गैस के उपयोग 

  • नियॉन का उपयोग लाल रौशनी देने वाले नियॉन लेम्प बनाने में जाता है, इनका अधिकतर उपयोग विज्ञापन बोर्ड बनाने में किया जाता है। 
  • नियॉन का उपयोग हाई वोल्टेज संकेतक (इंडिकेटर) बनाने के लिए किया जाता है। 
  • तरल नियॉन का उपयोग क्रायोजनिक रेफ्रिजरेंट के रूप में किया जाता है। 
  • नियॉन का उपयोग टेलीविजन टयूब और प्लाज्मा स्क्रीन बनाने में किया जाता है। 
  • गैस लेज़र बनाने के लिए नियॉन का उपयोग हीलियम के साथ किया जाता है। 
  • नियॉन का उपयोग वेव मीटर ट्यूब में किया जाता है। 
 

नियॉन के रोचक तथ्य 

  • नियॉन ब्रम्हांड में चौथा सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्व है, लेकिन पृथ्वी पर यह बहुत अल्प मात्रा में पाया जाता है। 
  • नियॉन तारों में पर्याप्त मात्रा पाया जाता है, नियॉन का निर्माण तारों के बनने के दौरान हीलियम और ऑक्सीजन के परमाणुओं के आपस मिलने से होता है। 
  • तरल नियॉन की ठंडा करने की क्षमता तरल हीलियम से 40 गुना अधिक होती है और तरल हाइड्रोजन से 3 गुना अधिक होती है। 
  • नियॉन हवा में लीक होने पर एस्पिक्सीएंट (Asphyxiant) के रूप में कार्य करता है, अर्ताथ हवा में लीक होने पर नियॉन ऑक्सीजन गैस को विस्थापित कर देती है, जिससे हवा में ऑक्सीजन का स्तर गिर जाता है। इसलिए नियॉन के साथ काम करते समय सावधानी बरतनी चाहिए, यह रंगहीन और गंधहिन गैस होती है, इसके लीक होने पर पता नहीं चलता और लगातार इसमें सांस लेते रहने पर ऑक्सीजन की कमी से इंसान बेहोश हो जाता है तथा गंभीर मामलों में जान भी जा सकती है।
  • नियॉन एक निष्क्रिय गैस होती है, लेकिन प्रयोगशाला के नियंत्रित वातावरण में नियॉन फ़्लोरिन के साथ एक यौगिक का निर्माण कर सकता है। 

Leave a Comment

error: Content is protected !!