Saturday, February 6, 2021

मैग्नीशियम के गुण, उपयोग और रोचक तथ्य Magnesium in Hindi

मैग्नीशियम (Magnesium) के गुण इसके उपयोग और रोचक तथ्य

Magnesium-ke-gun, Magnesium-ke-upyog, Magnesium-ke-tathy, Magnesium-in-Hindi, मैग्नीशियम-के-गुण, मैग्नीशियम-के-उपयोग, मैग्नीशियम-के-रोचक-तथ्य, मैग्नीशियम-की-जानकारी
Magnesium in Hindi

मैग्नीशियम (Magnesium) का परिचय 

मैग्नीशियम (Magnesium) मेटल का वर्गीकरण एल्कलाइन अर्थ मेटल (Alkaline Earth Metal) के रूप में किया जाता है, तथा रासायनिक रूप से यह एक तत्व है। मैग्नीशियम सिल्वर-सफ़ेद रंग की धातु होती है। मैग्नीशियम का सिंबल (Mg), परमाणु संख्या 12 तथा परमाणु भार 24.305 amu होता है। मैग्नीशियम के परमाणु में 12 इलेक्ट्रान, 12 प्रोटॉन, 12 न्यूट्रॉन और 3 एनर्जी लेवल होते है। आवर्त सारणी (Periodic Table) में मैग्नीशियम ग्रुप 2, पीरियड 3 और ब्लॉक (S) में स्थित होता है। मैग्नीशियम का घनत्व 1.738 ग्राम प्रति घंन सेंटीमीटर होता है। सामान्य तापमान पर मैग्नीशियम ठोस अवस्था में पाया जाता है, इसका गलनांक (पिघलने का तापमान) 650 डिग्री सेल्सियस (1202 डिग्री फेरेनाइट) और इसका क्वथनांक (उबलने का तापमान) 1090 डिग्री सेल्सियस (1994 डिग्री फेरेनाइट) होता है। 

 

मैग्नीशियम की खोज इंग्लिश कैमिस्ट सर हम्फ्रे दवे (Sir Humphry Davy) ने 1808 में की थी। 

Magnesium-ke-upyog, Magnesium-ke-tathy, Magnesium-in-Hindi, मैग्नीशियम-के-गुण, मैग्नीशियम-के-उपयोग, मैग्नीशियम-के-रोचक-तथ्य, मैग्नीशियम
Magnesium Properties in Hindi

मैग्नीशियम (Magnesium) के गुण 

  • मैग्नीशियम सिल्वर-सफ़ेद रंग की धातु होती है। 
  • मैग्नीशियम बहुत ज्वलनशील धातु है, इसे आसानी से जलाया जा सकता है, इसके जलने पर बहुत तेज सफ़ेद रोशनी और 3000 डिग्री सेल्सियस की गर्मी निकलती है। 
  • मैग्नीशियम में लगी आग को पानी और कार्बन-डाई-ऑक्साइड गैस  से नहीं बुझाया जा सकता, जलते हुए मैग्नीशियम पर पानी और कार्बन-डाई-ऑक्साइड गैस डालने पर मैग्नीशियम इनमें उपस्थित ऑक्सीजन लेकर और भी अधिक तेजी से जलने लगता है और इससे विस्फोट हो जाता है।  
  • ऑक्सीजन के संपर्क में आने पर मैग्नीशियम के ऊपर ऑक्साइड की परत जम जाती है,  जो इसे वातावरण से होने वाले नुक्सान से बचाती है। 
  • मैग्नीशियम रासायनिक रूप से बहुत अधिक सक्रीय तत्व है, इसलिए यह प्रकृति में शुद्ध अवस्था में नहीं पाया जाता। 
  • पानी के संपर्क में आने पर मैग्नीशियम हाइड्रोजन गैस उत्पन्न करता है, ठन्डे पानी में यह प्रतिक्रिया धीमी होती है, जबकि गर्म पानी में यह प्रतिक्रिया बहुत तेजी से होती है।  
  • मैग्नीशियम विधुत की सुचालक धातु होती है। 
  • मैग्नीशियम नॉन मैग्नेटिक धातु होती है। 


मैग्नीशियम (Magnesium) के उपयोग 

  • मैग्नीशियम जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक है, मैग्नीशियम के बिना पौधो में प्रकाश संश्लेषण संभव नहीं हो सकता। 
  • एक व्यस्क व्यक्ति को प्रतिदिन 250 से 350 mg मैग्नीशियम की आवश्यकता होती है,  मानव शरीर में मैग्नीशियम प्रोटीन निर्माण के लिए, हड्डियों की मजबूती के लिए और कई तरह के एंजाइमों के कार्य करने के लिए आवश्यक होता है।
  • मैग्नीशियम का उपयोग एलुमिनियम, ज़िंक, मैंगनीज, सिलिकॉन और कॉपर के साथ मिलकर मिश्र धातु बनाने में किया जाता है, इससे इन धातुओं की यांत्रिक विशेस्ताओं में सुधार होता है, यह मिश्र धातुएं भार में हलकी और मजबूत होती है इसलिए इनका उपयोग हवाईजहाज, एयरोस्पेस, इलेक्ट्रॉनिक और ऑटोमोबिल इंडस्ट्री में किया जाता है। 
  • मैग्नीशियम हलकी और मजबूत धातु है इसलिए इसका उपयोग कैमरा, लैपटॉप, मोबाइल, हवाईजहाज, रॉकेट, मिसाइल आदि के निर्माण में किया जाता है। 
  • पिघले हुए लोहे और स्टील में से सल्फर को अलग करने के लिए इनमे मैग्नीशियम मिलाया जाता है। 
  • मैग्नीशियम ऑक्साइड का उपयोग भट्टी के लिए गर्मी प्रतिरोधी ईंटे बनाने के लिए किया जाता है।
  • मैग्नीशियम का उपयोग पटखों में किया जाता है। 
  • मैग्नीशियम कार्बोनेट का उपयोग कुछ प्रकार के पेंट और स्याही बनाने में किया जाता है। 
  • चकाचोंध और प्रतिबिम्ब को कम करने के लिए ऑप्टिकल लेंस पर मैग्नीशियम फ्लोराइड की पतली परत चढाई जाती है।
  • मैग्नीशियम यौगिकों का उपयोग कृषि में व्यापक रूप से किया जाता है।
  • मैग्नीशियम का उपयोग कुछ औषधियो के निर्माण में भी किया जाता है। 


मैग्नीशियम (Magnesium) के रोचक तथ्य 

  • मैग्नीशियम ब्रह्मांड में आठवाँ सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्व है। 
  • मैग्नीशियम पृथ्वी पर सातवाँ सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्व है। 
  • समुद्री जल की एक घन किलोमीटर मात्रा में लगभग 1.3 अरब किलोग्राम मैग्नीशियम पाया जाता है। 
  • एक व्यस्क व्यक्ति के शरीर में लगभग 20 ग्राम मैग्नीशियम पाया जाता है, जो मुख्यतः हड्डियों में उपस्थित होता है। 
  • मैग्नीशियम ऑक्साइड (MgO) पृथ्वी की पपड़ी में दूसरा सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला यौगिक है। 
  • पुराने समय में मैग्नीशियम पाउडर का उपयोग फोटोग्राफी के दौरान फ़्लैश के रूप में तेज रौशनी उत्पन्न करने के लिए किया जाता था।

No comments:

Post a Comment