Wednesday, February 10, 2021

स्ट्रोन्शियम के गुण, उपयोग और रोचक तथ्य Strontium in Hindi

 स्ट्रोन्शियम (Strontium) के गुण, इसके उपयोग और रोचक तथ्य

Strontium-ke-gun, Strontium-ke-upyog, Strontium-ke-tathy, Strontium-in-Hindi, Strontium-uses-in-Hindi, स्ट्रोन्शियम-के-गुण, स्ट्रोन्शियम-के-उपयोग, स्ट्रोन्शियम-के-रोचक-तथ्य, स्ट्रोन्शियम
Strontium in Hindi

स्ट्रोन्शियम (Strontium) का परिचय 

स्ट्रोन्शियम (Strontium) का वर्गीकरण एल्कलाइन अर्थ मेटल (Alkaline Earth Metal) के रूप में किया जाता है, तथा रासायनिक रूप से स्ट्रोन्शियम एक तत्व है। स्ट्रोन्शियम  का सिंबल (Sr), परमाणु संख्या 38 तथा परमाणु भार 87.62 amu होता है, इसके परमाणु में 38 इलेक्ट्रान, 38 प्रोटॉन, 50 न्यूट्रॉन और 5 एनर्जी लेवल होते है। आवर्त सारणी (Periodic Table) में स्ट्रोन्शियम  ग्रुप 2, पीरियड 5 और ब्लॉक (S) में स्थित होता है। स्ट्रोन्शियम का घनत्व 2.64  ग्राम प्रति घंन सेंटीमीटर होता है। सामान्य तापमान पर स्ट्रोन्शियम ठोस अवस्था में पाया जाता है, इसका गलनांक (पिघलने का तापमान) 777 डिग्री सेल्सियस (1431 डिग्री फेरेनाइट) और इसका क्वथनांक (उबलने का तापमान) 1384 डिग्री सेल्सियस (2523.2 डिग्री फेरेनाइट) होता है। 


स्ट्रोन्शियम की खोज आयरिश कैमिस्ट अडैर क्रॉफोर्ड (Adair Crawford) ने 1790 में की थी।

Strontium-ke-upyog, Strontium-ke-tathy, Strontium-in-Hindi, Strontium-uses-in-Hindi, स्ट्रोन्शियम-के-गुण, स्ट्रोन्शियम-के-उपयोग, स्ट्रोन्शियम-के-रोचक-तथ्य, स्ट्रोन्शियम
Strontium Properties in Hindi


स्ट्रोन्शियम (Strontium) के गुण 

  • स्ट्रोन्शियम सिल्वर-सफ़ेद रंग की चमकदार धातु है। 
  • हवा के संपर्क में आने पर स्ट्रोन्शियम के ऊपर पिले रंग की ऑक्साइड की परत जम जाती है। 
  • स्ट्रोन्शियम नर्म धातु होती है। 
  • स्ट्रोन्शियम मैलिएबल और डक्टाइल धातु होती है। 
  • स्ट्रोन्शियम विधुत की अच्छी सुचालक धातु होती है। 
  • पानी के संपर्क में आने पर स्ट्रोन्शियम हाइड्रोजन गैस और स्ट्रोन्शियम हाइड्रोऑक्साइड उत्पन्न करता है। 
  • स्ट्रोन्शियम हैलोजन्स के साथ प्रतिक्रिया करता है। 
  • स्ट्रोन्शियम धातु हाइड्रोक्लोरिक एसिड में आसानी से घुल जाता है और हाइड्रोजन गैस उत्पन्न करता है। 
  • स्ट्रोन्शियम रासायनिक रूप से सक्रीय तत्व है, इसलिए यह प्रकृति में शुद्ध अवस्था में नहीं पाया जाता। 
  • स्ट्रोन्शियम आसानी से जलाया जा सकता है, इसके जलने पर लाल रंग की तेज चमकदार रौशनी निकलती है। 


स्ट्रोन्शियम (Strontium) के उपयोग 

  • स्ट्रोन्शियम का उपयोग रंगीन टेलीविजन की पिक्चर ट्यूब बनाने के लिए किया जाता है। 
  • स्ट्रोन्शियम का उपयोग जस्ता धातु के शुद्धिकरण में किया जाता है। 
  • स्ट्रोन्शियम कार्बोनेट और स्ट्रोन्शियम नाइट्रेट एक चमकदार लाल रौशनी के साथ जलते है, इसलिए इनका उपयोग पटाखों और फ्लेयर में किया जाता है। 
  • संवेदनशील दांतो के लिए बनाये जाने वाले टूथपेस्ट में स्ट्रोन्शियम क्लोराइड हेक्साहाइड्रेट एक घटक होता है। 
  • स्ट्रोन्शियम का उपयोग फेराइट मैग्नेट के उत्पादन में किया जाता है। 
  • स्ट्रोन्शियम का उपयोग ऐसे पेंट बनाने के लिए जो अँधेरे में चमकते है, इस पेंट्स को ग्लो इन डी डार्क (Glow in the Dark) पेंट कहा जाता है। 
  • स्ट्रोन्शियम-90 का उपयोग अंतरिक्ष यान और दूर दराज के मौसम स्टेशन में बिजली उत्पन्न करने  लिए किया जाता है। 
  • स्ट्रोन्शियम का उपयोग कुछ प्रकार के कांच (Glass) बनाने में किया जाता है। 
  • स्ट्रोन्शियम का उपयोग भू-वैज्ञानिक नमूनों की डेटिंग करने तथा कंकालों और मिटटी की कलाकृतियों की पहचान करने के लिए किया जाता है। 


स्ट्रोन्शियम (Strontium) के रोचक तथ्य 

  • स्ट्रोन्शियम पृथ्वी पर 15 वां  सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला तत्व है। 
  • स्ट्रोन्शियम मेटल का चूर्ण (पाउडर) सामान्य तापमान पर भी अचानक जल उठता है। 
  • स्ट्रोन्शियम का स्ट्रोन्शियम-90 आइसोटोप रेडियोएक्टिव होता है, इसका निर्माण परमाणु संयंत्रों में उप-उत्पाद के रूप में होता है। 
  • प्राकृतिक स्ट्रोन्शियम स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं होता परन्तु इसका एक आइसोटोप स्ट्रोन्शियम-90 अत्यधिक रेडियोएक्टिव होता है, इसके संपर्क में आने पर यह अस्थि उत्तकों द्वारा अवशोषित होता है, और अस्थि मज्जा को नस्ट कर सकता है तथा कैंसर का कारण बन सकता है।

No comments:

Post a Comment