एंटीमनी (Antimony) या सुरमा के गुण उपयोग और रोचक जानकारी Antimony in Hindi - GYAN OR JANKARI

Latest

Tuesday, April 6, 2021

एंटीमनी (Antimony) या सुरमा के गुण उपयोग और रोचक जानकारी Antimony in Hindi

सुरमा (Antimony) के गुण उपयोग और रोचक जानकारी 


सुरमा (Antimony) का परिचय

एंटीमनी (Antimony) का वर्गीकरण उपधातु (Metalloid) के रूप में किया जाता है, आम बोलचाल की भाषा में इसे सुरमा भी कहा जाता है, तथा रासायनिक रूप से यह एक तत्व है। उपधातु (Metalloid) ऐसे तत्व होते है जो धातु और अधातु दोनों के गुण प्रदर्शित करते है। एंटीमनी का घनत्व 6.685 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है, इसका सिंबल Sb, परमाणु संख्या 51 तथा परमाणु भार 121.760 amu होता है। एंटीमनी के परमाणु में 51 इलेक्ट्रान, 51 प्रोटॉन, 71 न्यूट्रॉन और 5 एनर्जी लेवल होते है, तथा आवर्त सारणी (Periodic Table) में एंटीमनी, ग्रुप 15, पीरियड 5 और ब्लॉक् (P) में स्थित होता है। एंटीमनी सामान्य तापमान पर ठोस अवस्था में पाया जाता है, इसका गलनांक (पिघलने का तापमान) 630.63 डिग्री सेल्सियस (1167.13 डिग्री फेरेनाइट) होता है, तथा इसका क्वथनांक (उबलने का तापमान) 1587 डिग्री सेल्सियस (2889 डिग्री फेरेनाइट) होता है, इससे अधिक तापमान पर एंटीमनी, गैस अवस्था में पाया जाता है। 

सुरमा (Antimony) का उपयोग प्राचीन समय से किया जा रहा है, अतः इसकी खोज किसने की यह अज्ञात है।

Antimony-ke-gun, Antimony-ke-upyog, Antimony-ki-Jankari, Antimony-in-Hindi, Antimony-information-in-Hindi, Antimony-uses-in-Hindi, सुरमा-के-गुण, सुरमा-के-उपयोग, सुरमा-की-जानकारी
Antimony in Hindi

सुरमा (Antimony) के गुण 


Antimony-ke-upyog, Antimony-ki-Jankari, Antimony-in-Hindi, Antimony-information-in-Hindi, Antimony-uses-in-Hindi, सुरमा-के-गुण, सुरमा-के-उपयोग, सुरमा-की-जानकारी
Antimony Properties in Hindi

  • एंटीमनी सिल्वर-सफ़ेद रंग का चमकदार पदार्थ होता है, जो धातु की तरह दिखाई देता है। 
  • एंटीमनी चार स्वरूपों (Allotropes) में पाया जाता है, सिल्वर-सफ़ेद धात्विक एंटीमनी, पीला एंटीमनी, ब्लैक एंटीमनी, और विस्फोटक सफ़ेद एंटीमनी। 
  • सिल्वर-सफ़ेद एंटीमनी कठोर और भंगुर होता है, तथा यह एंटीमनी का सबसे स्थिर स्वरूप होता है। 
  • विस्फोटक-सफ़ेद एंटीमनी झटकों के प्रति अतिसंवेदनशील पदार्थ होता है, इसे थोड़ा सा झटका लगने, खुरचने, मोड़ने और अचानक गर्म करने पर इसमें विस्फोट हो जाता है। 
  • ब्लैक एंटीमनी की संरचना लाल फास्फोरस के सामान होती है, यह हवा में ऑक्सीकृत हो जाता है और अचानक ही जलने लगता है, तथा 100 डिग्री से अधिक के तापमान पर यह धीरे धीरे सिल्वर-सफ़ेद एंटीमनी में बदल जाता है।
  • पीला एंटीमनी, एंटीमनी का सबसे अस्थिर (Unstable) स्वरूप होता है।  
  • एंटीमनी बिजली और ऊष्मा का ख़राब संवाहक है। 
  • एंटीमनी को चमकदार काले पाउडर के रूप में भी तैयार किया जा सकता है। 
  • एंटीमनी रासायनिक रूप से कम सक्रीय है, यह सामान्य तापमान पर हवा में ऑक्सीजन  से प्रतिक्रिया नहीं करता। 
  • एंटीमनी ठन्डे पानी के साथ प्रतिक्रिया नहीं करता, जबकि यह गर्म पानी से प्रतिक्रिया करके एंटीमनी ऑक्साइड (Sb2O3) बनाता है। 
  • एंटीमनी अधिकांश ठन्डे एसिड से प्रतिक्रिया नहीं करता, जबकि यह कुछ गर्म एसिड में घुल जाता है, इसके अलावा यह सामान्य तापमान पर अम्लराज (Aqua Regia) में भी घुल जाता है। 
  • एंटीमनी और इसके कई यौगिक विषाक्त होते है। 

सुरमा (Antimony) के उपयोग 

  • इलेक्ट्रॉनिक उद्योग में अति शुद्ध एंटीमनी का उपयोग विभिन्न प्रकार के सेमीकंडक्टर जैसे इंफ्रारेड डिटेक्टर और डायोड बनाने के लिए किया जाता है। 
  • सीसा धातु के साथ कुछ मात्रा में सुरमा मिलाया जाता है, इससे सीसा धातु की मजबूती में वृद्धि होती है। 
  • सीसा और सुरमा मिश्र धातु का उपयोग बैटरी में किया जाता है।
  • सुरमा मिश्र धातुओं का उपयोग टाइप मेटल, बुलेट, गोला-बारूद, लो-फ्रिक्शन मेटल, केबलशीथिंग आदि में किया जाता है।
  • सुरमा के यौगिकों का उपयोग फायरप्रूफ मटेरियल, सिरेमिक एनामेल्स, पेंट, कांच और मिटटी बर्तन बनाने के लिए किया जाता है। 
  • प्राचीन मिश्र के लोग काली आँखों के मेकअप के लिए सुरमा का उपयोग किया करते थे।
  • कुछ प्लास्टिक के उत्पादन में सुरमा का उपयोग उत्प्रेरक के रूप में किया जाता है। 
  • टिन धातु  13.2 डिग्री सेल्सियस से कम के तापमान पर ग्रे-टिन में बदल जाता है, इस परिवर्तन को रोकने के लिए टिन में कुछ मात्रा में बिस्मथ या सुरमा (Antimony) मिलाया जाता है। 

सुरमा (Antimony) की रोचक जानकारी 

  • पृथ्वी की पपड़ी में सुरमा 65 वॉ सबसे प्रचुर तत्व है। 
  • 4000 वर्ष ईसा पूर्व भी सुरमा के उपयोग के प्रमाण मिलते है। 
  • विश्व में सर्वाधिक एंटीमनी का उत्पादन चीन में किया जाता है, यहां विश्व के कुल एंटीमनी उत्पादन का लगभग 60% प्राप्त  किया जाता है। 


No comments:

Post a Comment