बिस्मथ (Bismuth) के गुण उपयोग और रोचक जानकारी Bismuth in Hindi - GYAN OR JANKARI

Latest

Thursday, April 8, 2021

बिस्मथ (Bismuth) के गुण उपयोग और रोचक जानकारी Bismuth in Hindi

बिस्मथ (Bismuth) के गुण उपयोग और रोचक जानकारी  


बिस्मथ (Bismuth) का परिचय 

बिस्मथ (Bismuth) एक धातु है, इसका वर्गीकरण अन्य धातु (Other Metal) के रूप में किया जाता है, तथा रासायनिक रूप से यह एक तत्व है। बिस्मथ का घनत्व 9.8 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है। इसका परमाणु भार 208.98 AMU, परमाणु संख्या 83 तथा सिंबल Bi होता है, इसके परमाणु में 83 इलेक्ट्रान, 83 प्रोटोन, 126 न्यूट्रॉन तथा 6 एनर्जी लेवल होते है। आवर्त सारणी (Periodic Table) में बिस्मथ ग्रुप 15, पीरियड 6 और ब्लॉक P में स्थित होता है। सामान्य तापमान पर बिस्मथ ठोस अवस्था में पाया जाता है। बिस्मथ का गलनांक (पिघलने का तापमान) 271.4 डिग्री सेल्सियस (520.52 डिग्री फेरेनाइट) और इसका क्वथनांक (उबलने का तापमान) 1564 डिग्री सेल्सियस (2847 डिग्री फेरेनाइट) होता है, इससे अधिक तापमान पर बिस्मथ गैस अवस्था में पाया जाता है।

बिस्मथ धातु का उपयोग प्राचीन समय से किया जा रहा है, इसलिए इसकी खोज किसने की यह अज्ञात है।


Bismuth-ke-gun, Bismuth-ke-upyog, Bismuth-ki-Jankari, Bismuth-in-Hindi, Bismuth-information-in-Hindi, Bismuth-uses-in-Hindi, बिस्मथ-के-गुण, बिस्मथ-के-उपयोग, बिस्मथ-की-जानकारी
Bismuth in Hindi

बिस्मथ (Bismuth) के भौतिक और रासायनिक गुण 

Bismuth-ke-upyog, Bismuth-ki-Jankari, Bismuth-in-Hindi, Bismuth-information-in-Hindi, Bismuth-uses-in-Hindi, बिस्मथ-के-गुण, बिस्मथ-के-उपयोग, बिस्मथ-की-जानकारी
Bismuth Properties in Hindi
  • बिस्मथ सिल्वर-सफ़ेद रंग की चमकदार धातु है, इसमें हलके गुलाबी रंग की झलक होती है। 
  • बिस्मथ एक भंगुर धातु है, यह आसानी टूट जाती है, इसलिए इसे उपयोगी बनाने के लिए इसमें अन्य धातुएं मिलाई जाती है। 
  • बिस्मथ सर्वाधिक डायमैग्नेटिक (Diamagnetic) धातु होती है। डायमैग्नेटिक गुण के कारण कोई पदार्थ किसी अन्य मेग्नेटिक फील्ड के स्रोत का प्रतिरोध करने के लिए स्वयं अपनी मेग्नेटिक फील्ड उत्पन्न करने लगता है। 
  • बिस्मथ की उष्मा सुचालकता सभी धातुओं में पारे (Mercury) के बाद सबसे कम होती है। 
  • बिस्मथ में किसी भी धातु की तुलना में सर्वाधिक विधुत प्रतिरोध और सर्वाधिक हॉल इफेक्ट (Hall effect) पाया जाता है। हॉल इफेक्ट के कारण किसी पदार्थ को मेग्नेटिक फील्ड में रखने पर उसके विधुत प्रतिरोध में वृद्धि हो  जाती है। 
  • बिसमथ के सभी लवण पानी में डालने पर अघुलनशील यौगिक बनाते है। 
  • बिस्मथ तरल अवस्था से ठोस में परिवर्तित होते समय फ़ैल जाता है, अर्ताथ इसके आयतन में वृद्धि हो जाती है। 
  • सामान्य तापमान पर बिस्मथ ऑक्सीजन से धीरे-धीरे प्रतिक्रिया करता है, जिसके कारण इसके ऊपर बिस्मथ ऑक्साइड (Bi2O3) की गुलाबी या पिले रंग की परत जम जाती है। 
  • बिस्मथ लगभग सभी एसिड्स के साथ प्रतिक्रिया करता है। 


बिस्मथ (Bismuth) के उपयोग 

  • बिस्मथ का उपयोग इसे अन्य धातुओं के साथ मिलकर मिश्र धातु बनाने के लिए किया जाता है, इसके लिए आमतौर पर बिस्मथ को सीसा, टिन, कैडमियम और लोहा धातु के साथ मिलाया जाता है। 
  • बिस्मथ को टिन या कैडमियम के साथ मिलकर जो मिश्र-धातु बनाई जाती है उनमे से कुछ का गलनांक पानी के क्वथनांक से भी कम होता है, इसलिए उनका उपयोग फायर स्प्रिंकलर सिस्टम, ईंधन टैंको के सुरक्षा प्लग, बिजली के फ्यूज और सोल्डर आदि में किया जाता है। 
  • बिस्मथ ऑक्साइड (Bi2O3) का उपयोग कॉस्मेटिक्स और पेंट्स में पिले रंग के पिग्मेंट के रूप में किया जाता है। 
  • बिस्मथ ऑक्सीक्लोराइड (BiOCl) का उपयोग बिस्मथ-वाइट नाम के पिग्मेंट को बनाने के लिए किया जाता है। 
  • बिस्मथ कार्बोनेट (Bi2 (CO3) 3) का उपयोग अपच और दस्त के उपचार में किया जाता है।
  • बिस्मथ के कुछ यौगिकों का उपयोग एक्रिलोनिट्राइल (Acrylonitrile (C3H3N)) के उत्पादन में उत्प्रेरक के रूप में किया जाता है, एक्रिलोनिट्राइल का उपयोग सिंथेटिक फाइबर और रबर के उत्पादन में कच्चे माल (Raw Material) के रूप में किया जाता है। 
  • तरल बिस्मथ का उपयोग परमाणु ऊर्जा उत्पादन में फ्यूल कैरियर और कूलेंट के रूप में किया जाता है।  
  • टिन धातु  13.2 डिग्री सेल्सियस से कम के तापमान पर ग्रे-टिन में बदल जाता है, इस परिवर्तन को रोकने के लिए टिन में कुछ मात्रा में बिस्मथ या सुरमा (Antimony) मिलाया जाता है।  
  • बिस्मथ सीसा धातु की तरह विषाक्त नहीं होता है, इसलिए आजकल प्लंबिंग, पेंट्स आदि कई उपयोगों में बिस्मथ का प्रयोग सीसा के विकल्प के रूप में किया जा रहा है।    

बिस्मथ (Bismuth) की रोचक जानकारी 

  • बिस्मथ पृथ्वी की पपड़ी में 71 वॉ सबसे प्रचुर तत्व है। 
  • अधिकतर बिस्मथ का उत्पादन तांबा, टिन, स्वर्ण और चांदी के अयस्कों से एक उप-उत्पाद के रूप में किया जाता है। 
  • बिस्मथिमाइट और बिस्माइट बिस्मथ के सबसे महत्वपूर्ण अयस्क है। 
  • दुनिया में सर्वाधिक बिस्मथ का उत्पादन चीन में किया जाता है। 


No comments:

Post a Comment