आयरन ऑक्साइड के गुण उपयोग और अन्य जानकारी Iron oxide in Hindi

आयरन ऑक्साइड के गुण उपयोग और अन्य जानकारी Iron oxide in Hindi

 

आयरन ऑक्साइड क्या है (What is Iron Oxide)

आयरन ऑक्साइड एक अकार्बनिक यौगिक है, जो आयरन और ऑक्सीजन से मिलकर बना होता है। इसका रासायनिक सूत्र Fe2O3 है। इसके एक अणु में आयरन के दो परमाणु और ऑक्सीजन के तीन परमाणु होते है। आयरन ऑक्साइड को फेरिक ऑक्साइड भी कहा जाता है, तथा आमतौर पर इसे लोहे पर लगने वाली जंग के रूप में भी जाना जाता है। वर्तमान में सोलह ज्ञात आयरन ऑक्साइड और ऑक्सीहाइड्रॉक्साइड पाए जाते हैं, जिनमें से तीन प्रमुख हैं, फेरिक ऑक्साइड या हेमेटाइट (Fe2O3), आयरन ऑक्साइड (II) (FeO) तथा आयरन ऑक्साइड (III) या मैग्नेटाइट (Fe3O4). हेमेटाइट जिसका रासायनिक सूत्र Fe2O3 है, यह लोहे का एक प्राकृतिक खनिज है जो प्रकृति में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है इसका उपयोग इस्पात उद्योग के लिए शुद्ध लोहे का उत्पादन करने के लिए किया जाता है।

 iron-oxide-in-hindi, Iron-oxide-uses-in-Hindi, Iron-oxide-properties-in-Hindi, आयरन-ऑक्साइड-क्या-है, आयरन-ऑक्साइड-के-गुण, आयरन-ऑक्साइड-के-उपयोग, आयरन-ऑक्साइड-की-जानकारी,

आयरन ऑक्साइड के गुण (Properties of Iron Oxide in Hindi)

  • आयरन ऑक्साइड लाल-भूरे रंग का गंधहीन ठोस पदार्थ होता है।
  • इसका घनत्व 5.24 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है।
  • सामान्य तापमान पर आयरन ऑक्साइड ठोस अवस्था में पाया जाता है, इसका गलनांक (Melting Point) 1597 डिग्री सेल्सियस होता है, और इसका क्वथनांक (Boiling Point) 2623 डिग्री सेल्सियस होता है।
  • आयरन ऑक्साइड विधुत का कुचालक होता है।
  •  आयरन (III ) ऑक्साइड की प्रकृति क्षारीय होती है।
  • आयरन ऑक्साइड पानी के साथ प्रतिक्रिया करके आयरन हाइड्रॉक्साइड बनाता है।
  • आयरन (III ) ऑक्साइड सल्फ्यूरिक एसिड के साथ प्रतिक्रिया करके आयरन (III) सल्फेट और पानी का उत्पादन करता है।
  • यह पानी में घुलनशील नहीं है, लेकिन मजबूत एसिड में दृढ़ता से घुलनशील होता है।

आयरन ऑक्साइड के उपयोग (Uses of Iron Oxide in Hindi)

  • आयरन ऑक्साइड (हेमेटाइट) Fe2O3 का उपयोग शुद्ध लौह धातु के उत्पादन में किया जाता है।
  • इसका उपयोग पिग्मेंट के रूप में किया जाता है।
  • इसका उपयोग मुद्रांकन के लिए उपयोग होने वाली डाई स्याही बनाने के लिए किया जाता है।
  • यह प्लास्टिक, दवा उत्पाद, स्याही और सौंदर्य प्रसाधन बनाने वाले विभिन्न उद्योगों में उपयोग किया जाने वाला प्रमुख घटक है।
  • इसका उपयोग धातु के गहनों पर अंतिम पॉलिश करने  के लिए किया जाता है।
  • आयरन ऑक्साइड और एलुमिनियम पाउडर को मिलकर मिश्रण बनाया जाता है, इस मिश्रण को जलाने पर 2500 डिग्री सेल्सियस की गर्मी उत्पन्न होती है, इसे थर्माइट रिएक्शन कहा जाता है, इसका उपयोग स्पॉट वेल्डिंग में और रेलवे लाइन को जोड़ने के लिए किया जाता है।

अन्य जानकारी (Other Information)

  • सांस लेने पर आयरन ऑक्साइड की धूल या इसके धुएं के संपर्क में आने से बुखार हो सकता है। इससे मुँह में धातु के स्वाद के लक्षण, बुखार और ठंड लगना, दर्द, सीने में जकड़न और खांसी के साथ फ्लू जैसे लक्षण दिखाई दे सकते है।
  • FeO को फेरस ऑक्साइड कहा जाता है जबकि Fe2O3 को फेरिक ऑक्साइड कहा जाता है, तथा  Fe3O4 यौगिक को फेरस फेरिक ऑक्साइड कहा जाता है।
 यह भी पढ़ें 
error: Content is protected !!