मैग्नीशियम सल्फेट के गुण उपयोग और अन्य जानकारी Magnesium sulfate in Hindi

मैग्नीशियम सल्फेट के गुण उपयोग और अन्य जानकारी Magnesium sulfate in Hindi

 

मैग्नीशियम सल्फेट क्या है (What is Magnesium sulfate)

मैग्नीशियम सल्फेट एक यौगिक और एक लवण है, इसका रासायनिक सूत्र MgSo4 होता है। मैग्नीशियम सल्फेट एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला खनिज है, इसे एप्सोम साल्ट (Epsom Salt) के नाम से भी जाना जाता है। यह एक क्रिस्टलीय ठोस पदार्थ होता है, जो जल में आसानी से घुल जाता है। मैग्नीशियम सल्फेट आमतौर पर 1 और 11 के बीच n के विभिन्न मूल्यों के लिए हाइड्रेट MgSO4·nH2O के रूप में पाया जाता है। सबसे आम हेप्टाहाइड्रेट MgSO4·7H2O है। मैग्नेसियम सल्फेट का सबसे महत्वपूर्ण उपयोग कृषि में किया जाता है, यह पौधो में मेग्नेशियम की कमी को पूरा करता है, मेग्नेशियम पौधों में पर्णहरित के विकास के लिए आवश्यक होता है, जिससे पौधे प्रकाश संश्लेषण प्रक्रिया द्वारा सूर्य के प्रकाश से अपना भोजन बनाते हैं।

magnesium-sulfate-in-Hindi, magnesium-sulfate-uses-in-Hindi, magnesium-sulfate-properties-in-Hindi, मैग्नीशियम-सल्फेट-क्या-है, मैग्नीशियम-सल्फेट-के-गुण, मैग्नीशियम-सल्फेट-के-उपयोग, मैग्नीशियम-सल्फेट-की-जानकारी

मैग्नीशियम सल्फेट के गुण ( Properties of Magnesium sulfate in Hindi)

  • मैग्नीशियम सल्फेट सफ़ेद रंग का क्रिस्टलीय ठोस पदार्थ होता है, जो गंधरहित होता है।
  • इसका घनत्व 2.66 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है।
  • सामान्य तापमान पर मैग्नीशियम सल्फेट ठोस अवस्था में पाया जाता है, इसका गलनांक (Melting Point) 1124 डिग्री सेल्सियस होता है।
  • 1124 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान पर मैग्नेसियम सल्फेट विघटित हो जाता है, इसलिए इसका क्वथनांक (Boiling Point) नहीं होता है।
  • इसका स्वाद कड़वा और नमकीन होता है।
  • मैग्नीशियम सल्फेट जल में घुलनशील है, तथा जल के तापमान में वृद्धि के साथ मैग्नीशियम सल्फेट की जल में घुलनशीलता बढ़ती जाती है।
  • मैग्नीशियम सल्फेट अल्कोहल जैसे कार्बनिक सॉल्वैंट्स में घुलनशील नहीं है।

 

मैग्नीशियम सल्फेट के उपयोग ( Uses of Magnesium sulfate in Hindi)

  • कृषि में मैग्नीशियम सल्फेट का उपयोग मिट्टी में मैग्नीशियम और सल्फर की मात्रा को बढ़ाने के लिए किया जाता है।
  • मैग्नीशियम सल्फेट कीटों और स्लग को नियंत्रित करने में सक्षम है, यह बीज के अंकुरण में मदद करता है, अधिक फूल पैदा करता है, पोषक तत्वों की वृद्धि में सुधार करता है, तथा पर्यावरण के अनुकूल है।
  • एक्लम्पसिया गर्भवती महिलाओं की एक ऐसी स्थिति है जिसमें बच्चे के जन्म के दौरान या बाद में दौरे पड़ते हैं। माना जाता है कि मैग्नीशियम सल्फेट गर्भवती महिलाओं में एक्लम्पसिया को नियंत्रित करता है।
  • टोफू बनाने के लिए कौयगुलांट्स की आवश्यकता होती है। टोफू बनाने में मैग्नीशियम सल्फेट का उपयोग कौयगुलांट के रूप में किया जाता है।
  • बियर बनाने में मैग्नीशियम सल्फेट नमक का उपयोग शराब बनाने वाले नमक के रूप में किया जाता है।
  • मैग्नेसियम सल्फेट का उपयोग माचिस और विस्फोटक बनाने में किया जाता है।
  • मैग्नीशियम सल्फेट का उपयोग नहाने के नमक के रूप में किया जाता है, विशेष रूप से पैर धोने के लिए, और पैरों के दर्द को दूर करने के लिए। इस तरह के स्नान के बारे में कहा जाता है कि यह मांसपेशियों में दर्द, दर्द, या चोट से उबरने और जल्दी ठीक होने में भी मदद करता है। इसके अलावा कॉस्मेटिक कारणों के लिए भी नहाने के पानी मे इसे  शामिल किया गया है, इससे बढ़ी हुई आयनिक ताकत कुछ क्षणिक त्वचा झुर्रियों को कम करती है, जो आमतौर पे सादे पानी से स्नान करने के करण होती है।
  • मैग्नीशियम सल्फेट का उपयोग शरीर मे मैग्नीशियम की कमी को दूर करने के लिए किया जाता है।
  • इसका उपयोग अस्थमा के उपचार मे भी किया जाता है ।
  • निर्जल मैग्नीशियम सल्फेट आमतौर पर कार्बनिक संश्लेषण में एक जलशुष्कक के रूप में उपयोग किया जाता है।
  • मैग्नीशियम सल्फेट का उपयोग मैग्नीशियम ऑक्साइड और मैग्नीशियम सल्फेटसोल्युशन के बीच प्रतिक्रिया द्वारा विशिष्ट सीमेंट तैयार करने के लिए किया जाता है, जो पोर्टलैंड सीमेंट की तुलना में अच्छी बाध्यकारी क्षमता और अधिक प्रतिरोध वाले होते हैं। यह सीमेंट मुख्य रूप से हल्के इन्सुलेशन पैनल के उत्पादन में उपयोग किया जाता है। परन्तु इसकी जल प्रतिरोधक क्षमता कम होती है जो इस सीमेंट के उपयोग को सीमित करती है।
  • मैग्नीशियम सल्फेट हेप्टाहाइड्रेट का उपयोग समुद्री एक्वैरिया में मैग्नीशियम की सांद्रता को बनाए रखने के लिए भी किया जाता है। 

 

अन्य जानकारी (Other Information)

  • मैग्नीशियम सल्फेट को सल्फ्यूरिक एसिड मैग्नीशियम नमक के रूप में भी जाना जाता है।
  • मैग्नीशियम सल्फेट के अत्यधिक सेवन से हाइपरमैग्नेसिमिया की स्थिति हो जाती है, जो रक्त में मैग्नीशियम आयनों की अधिकता को प्रदर्शित करता है। यह अतिरिक्त मैग्नीशियम शरीर के सामान्य कार्यों में हस्तक्षेप करता है।
  • यदि मैग्नीशियम सल्फेट की अधिक मात्रा में लिया जाए तो यह जीवन के लिए खतरा हो सकता है। यदि डॉक्टर द्वारा सुझाई गई खुराक से अधिक खुराक ली जाए तो यह घातक साबित हो सकती है।
  • कुछ मिनरल वाटर में स्वाभाविक रूप से मैग्नीशियम और सल्फेट आयन शामिल होते हैं।
  • मैग्नीशियम सल्फेट मिट्टी में मैग्नीशियम की कमी को ठीक करने में मदद करता है। परंतु यदि इसका अत्यधिक मात्रा में उपयोग किया जाए तो मैग्नीशियम सल्फेट भूमिगत पानी को प्रदूषित भी कर सकता है।
  • बहुत से लोग एप्सोम साल्ट (Epsom Salt) और सेंधा नमक को एक ही मानते है, परन्तु ये दोनों अलग होते है। सेंधा नमक सोडियम क्लोराइड का ही एक रूप होता है, जबकि एप्सोम साल्ट (Epsom Salt) मेग्नेशियम सल्फेट होता है।

  यह भी पढ़ें 

error: Content is protected !!