सोडियम क्लोराइड के गुण उपयोग और अन्य जानकारी Sodium Chloride in Hindi

सोडियम क्लोराइड के गुण उपयोग और अन्य जानकारी Sodium Chloride in Hindi

 

सोडियम क्लोराइड क्या है (What is Sodium Chloride)

सोडियम क्लोराइड एक आयनिक यौगिक है, इसे आमतौर पर साधारण नमक के रूप में जाना जाता है। इसका रासायनिक सूत्र NaCl होता है, जो क्लोराइड और सोडियम आयनों के 1:1 अनुपात को दर्शाता है। यह एक रंगहीन घन क्रिस्टल या महीन क्रिस्टलीय पाउडर है, जो सफ़ेद रंग का दिखाई देता है और इसका स्वाद नमकीन होता है। सोडियम क्लोराइड समुद्री जल की लवणता के लिए सबसे अधिक जिम्मेदार लवण है। टेबल नमक के रूप में, यह आमतौर पर एक मसाला और खाद्य संरक्षक के रूप में प्रयोग किया जाता है, इसके अलावा कई औद्योगिक प्रक्रियाओं में बड़ी मात्रा में सोडियम क्लोराइड का उपयोग किया जाता है। सोडियम क्लोराइड पृथ्वी पर सबसे प्रचुर मात्रा में पाए जाने वाले खनिजों में से एक है तथा यह लोगों सहित कई पौधों और जानवरों के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व भी है।

सोडियम-क्लोराइड-के-गुण,  सोडियम-क्लोराइड-के-उपयोग, सोडियम-क्लोराइड-की-जानकारी, Sodium-Chloride-in-Hindi, Sodium-Chloride-uses-in-Hindi, Sodium-Chloride-properties-in-Hindi

सोडियम क्लोराइड के गुण (Properties of Sodium Chloride in Hindi)

  • सोडियम क्लोराइड एक रंगहीन, गंधहीन, नमकीन स्वाद वाला क्रिस्टलीय ठोस पदार्थ होता है।
  • इसका घनत्व 2.16 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है।
  • सामान्य तापमान पर सोडियम क्लोराइड ठोस अवस्था में पाया जाता है, इसका गलनांक (Melting Point) 801 डिग्री सेल्सियस और इसका क्वथनांक (Boiling Point) 1465 डिग्री सेल्सियस होता है।
  • आयनों के मुक्त संचलन के कारण, सोडियम क्लोराइड (NaCl) अपनी जलीय अवस्था में विद्युत का अच्छा संवाहक है।
  • यह पानी और ग्लिसरीन में घुलनशील होता है तथा इथेनॉल और तरल अमोनिया में अल्प घुलनशील होता है।
  • यह उच्च तापमान पर विघटित होकर डिसोडियम ऑक्साइड (Na2O) और हाइड्रोक्लोरिक एसिड (HCl) के जहरीले धुएं का उत्पादन करता है।
  • सोडियम क्लोराइड में जीवाणुरोधी और बैक्टीरिया रोधी गुण पाए जाते है।

 

सोडियम क्लोराइड के उपयोग (Uses of Sodium Chloride in Hindi)

  • सोडियम क्लोराइड का खाद्य उद्योग में एक संरक्षक और स्वाद बढ़ाने वाले रसायन के रूप में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।
  • सोडियम कार्बोनेट और सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट जैसे विभिन्न रसायनों के औद्योगिक उत्पादन के लिए सोडियम क्लोराइड का उपयोग कच्चे माल (Row Material) के रूप में किया जाता है।
  • ठंडे देशों में इसका उपयोग सड़कों, पुलों और अन्य संरचनाओं पर बर्फ के जमावको रोकने के लिए किया जाता है।
  • सॉल्वे प्रक्रिया में, सोडियम क्लोराइड का उपयोग सोडियम कार्बोनेट और कैल्शियम क्लोराइड के उत्पादन के लिए किया जाता है। सोडियम कार्बोनेट का उपयोग तब कांच, सोडियम बाइकार्बोनेट, रंजक और कई अन्य रसायनों को बनाने के लिए किया जाता है।
  • इसका उपयोग एल्यूमीनियम, बेरिलियम, तांबा, स्टील और वैनेडियम के उत्पादन में भी किया जाता है।
  • लुगदी और कागज उद्योग में लकड़ी के गूदे को ब्लीच करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • सोडियम क्लोराइड का उपयोग सोडियम क्लोरेट के उत्पादन में भी किया जाता है, जिसे सल्फ्यूरिक एसिड और पानी के साथ मिलाकर क्लोरीन डाइऑक्साइड का उत्पादन किया जाता है, जो एक उत्कृष्ट ऑक्सीजन-आधारित विरंजन रसायन है।
  • कुल्फी, आइसक्रीम आदि बनाने के लिए बर्फ में सोडियम क्लोराइड मिलाकर जमाने वाला मिश्रण तैयार किया जाता है।
  • विभिन्न रासायनिक पदार्थ जैसे- वाशिंग सोडा, कास्टिंग सोडा, सोडियम सल्फेट, हाइड्रोक्लोरिक एसिड, क्लोरीन आदि बनाने में सोडियम क्लोराइड का उपयोग किया जाता है।
  • साबुन के उत्पादन में सोडियम क्लोराइड का उपयोग किया जाता है।
  •  इसका उपयोग शैम्पू, टूथपेस्ट और यहां तक ​​कि पानी सॉफ़्नर जैसे क्लीनर में भी किया जाता है।
  • सोडियम क्लोराइड तेल और गैस की खोज में कुएं की ड्रिलिंग में उपयोग किये जाने वाले ड्रिलिंग फ्लूइड का एक महत्वपूर्ण घटक होता है।
  • इसका उपयोग कांच के उत्पादन में किया जाता है।

 

अन्य जानकारी (Other Information)

  • सोडियम क्लोराइड को आमतौर पर सेंधा नमक या साधारण नमक कहा जाता है। ज्यादातर नमक समुद्री जल के वाष्पीकरण द्वारा निर्मित होता है। नमक के उत्पादन के लिए समुद्री जल या नमकीन झीलों के जल को नमक के बिस्तरों में पंप किया जाता है, जहाँ सूर्य से प्राप्त ऊष्मा से इस जल का वाष्पीकरण होता है, और नमक वहीं पर रह जाता है, जिसे बाद में एकत्रित कर लिया जाता है। कई देशो में नमक उत्पादन के लिए ब्राइन घोल का भी उपयोग किया जाता है। 
  • नमक के वजन में आमतौर पर 40 प्रतिशत सोडियम और 60 प्रतिशत क्लोराइड का संयोजन होता है।
  • सोडियम क्लोराइड (NaCl), जिसे नमक के रूप में भी जाना जाता है, एक आवश्यक यौगिक है जिसका उपयोग हमारा शरीर विभिन्न कार्यों के सञ्चालन के लिए करता है, जैसे पोषक तत्वों के अवशोषण और परिवहन के लिए, रक्तचाप को नियंत्रित रखने के लिए, शरीर में तरल का उचित स्तर बनाए रखने के लिए, तंत्रिका तंत्र के संदेशो के आदान-प्रदान के लिए,मांसपेशियों के संकुचन के लिए आदि।  
  • नमक का बहुत कम या बहुत अधिक सेवन स्वास्थ्य के लिए अत्यंत हानिकारक हो सकता है।

 

  यह भी पढ़ें 

error: Content is protected !!